जब नोट बरसने लगे


जादू एक कला है और इस कला को सही तरीके से प्रस्तुत करने के लिए जरुरी है जादूगर के हाथ की सफाई. इस बात से शायद सभी भली-भांति वाकिफ भी है. लेकिन इतनी सफाई की मात्र दो कदम की दूरी पर एक जादूगर बैठा हो और एक ही पल में उसके हाथो से नोटों की बरसात होने लगे. एक पल तो ऐसे लगा की जैसे भले ही नोटों की माला माया के पास है लेकिन नोटों की माया तो इसी के पास है. यही कारण था की एक के बाद एक कभी 1000 के तो कभी 500 के नोट झम-झम कर उसके हाथो से उड़ रहे थे. अभी हम इस नजारे की फोटो खिंच कर अपने कैमरे संभाल ही रहे थे की एक फोटो पर हमारा ध्यान अटक गया. कारण था की जादूगर की हाथ की सफाई जो पकड़ में आ गई थी. एक फोटो में लगा की यह जो भोला सा 25 वर्षीय नौजवान युवक जादूगर मंगल तारा हमारे सामने इतनी सफाई से अपनी कला प्रस्तुत कर गया वाकई वो एक दिन देश और इस कला का नाम रोशन करेगा.
आप सभी अपनी नजर मेरे इस हाथ पर रखे. फिर यह मत कहना की यह अजूबा कैसे हो गया. हम सभी उसके उलटे हाथ की और देखने लगे लेकिन किसी को यह ज्ञात ही नहीं रहा की उसका सीधा हाथ क्या कर रहा है. लेकिन कैमरे अपना काम बखूबी कर रहे थे. इसलिए यह पता चल गया की जब एक जादूगर दर्शको को कुछ देखने की बात करता है उसी पल वो अपनी कला और सफाई को अंजाम दे जाता है. 13 साल की उम्र में गुजरात के जादूगर मंगल से प्रभावित हुआ राजस्थान के गंगानगर का रहने वाला दीपक मुजराल 15 साल की उम्र से जादूगरी की दुनिया में अपना कमाल दिखा रहा है. भारत के अनेको प्रदेशो में अपनी कला का लोहा मनवा चुके मंगल तारा सिंगापुर और मारीशस में भी अपनी प्रस्तुति दे चुके है. उन्हें इस बात की ख़ुशी है की कारगिल युद्ध के दौरान अपनी कला का प्रदर्शन कर वो देश के कुछ काम आ सके.
आज अपने एक शो के दौरान वो लगभग दो दर्जन से अधिक जादू पेश करते है लेकिन इनमे से छत के पंखे को मेज पर चलाना उनकी मुख्य प्रस्तुति में शामिल है. उनका कहना है की वो अपने प्रत्येक जादू से दर्शको को कोई ना कोई सन्देश देना चाहते है. उन्होंने बताया की आँखों पर पट्टी बांध कर मोटरसाइकिल चलाने के पीछे उनका यही सन्देश है की जब वो बिना आँखों के कोई दुर्घटना किये बिना सड़क पर चल सकते है तो आँख होते हुए भी कोई चालक दुर्घटना कैसे कर जाता है. उन्होंने कहा की जनता को वाहन चलाने के समय मोबाईल उपयोग नहीं करना चाहिए.साथ ही उन्होंने बताया की एक प्रस्तुति उन्होंने कन्या भ्रूण हत्या पर रखी है. इसमें वो एक लड़की को हवा में गायब कर देते है. जिसके बाद उनका सन्देश होता है की अगर एक दिन ऐसे ही लडकिया ख़त्म हो गई तो माँ-बहन कहा से लाओगे. अपने इसी संदेशो के बूते पर वो हरियाणा सरकार से मनोरंजन टेक्स माफ़ी की अपील भी करते है.

Related Articles :


Stumble
Delicious
Technorati
Twitter
Facebook

1 आपकी गुफ्तगू:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

जादूगर मंगल तारा से परिचित कराने के लिए धन्यवाद!

सेटिंग में जाकर कमेंट ऑप्सन खोलें।
इसमें यह देखें-
Show word verification for comments? Yes No This will require people leaving comments on your blog to complete a word verification step, which will help reduce comment spam. Learn more
Blog authors will not see word verification for comments.

इस में आपको Yes No में से No पर क्लिक करके सबसे नीचे जाकर सेव-सैटिंग कर देना है!
फिर कमेंट word verification नहीं माँगेगा!

Post a Comment

अंग्रेजी से हिन्दी में लिखिए

तड़का मार के

* महिलायें गायब
तीन दिन तक लगातार हुई रैलियों को तीन-तीन महिला नेत्रियों ने संबोधित किया. वोट की खातिर जहाँ आम जनता से जुड़ा कोई मुद्दा नहीं छोड़ा वहीँ कमी रही तो महिलाओं से जुड़े मुद्दों की.

* शायद जनता बेवकूफ है
यह विडम्बना ही है की कोई किसी को भ्रष्ट बता रह है तो कोई दूसरे को भ्रष्टाचार का जनक. कोई अपने को पाक-साफ़ बता रहे है तो कोई कांग्रेस शासन को कुशासन ...

* जिंदगी के कुछ अच्छे पल
चुनाव की आड़ में जनता शुकून से सांस ले पा रही है. वो जनता जो बीते कुछ समय में नगर हुई चोरी, हत्याएं, हत्या प्रयास, गोलीबारी और तोड़फोड़ से सहमी हुई थी.

* अन्ना की क्लास में झूठों का जमावाडा
आज कल हर तरफ एक ही शोर सुनाई दे रहा है, हर कोई यही कह रहा है की मैं अन्ना के साथ हूँ या फिर मैं ही अन्ना हूँ. गलत, झूठ बोल रहे है सभी.

* अगड़म-तिगड़म... देख तमाशा...
भारत देश तमाशबीनों का देश है. जनता अन्ना के साथ इसलिए जुड़ी, क्योंकि उसे भ्रष्टाचार के खिलाफ यह आन्दोलन एक बहुत बड़ा तमाशा नजर आया.
a
 

gooftgu : latest news headlines, hindi news, india news, news in hindi Copyright © 2010 LKart Theme is Designed by Lasantha